आमिर लोगो के आमिर बनाने के तरीके आप भी करे ये 

कुछ अमीर लोगो ने अमीर बनने के तरीके (Amir Banne Ke Tarike) बताये है, जो में आपके साथ जरुर शेयर करना चाहुगा। जिसे पढ़ कर आप अपने जिंदगी में अपना सकते है। अगर आपके मन में चल रहा है कि ऐसा संभव नहीं है तो मैं आपको यह कहना चाहुगा की अगले 5 मिनट तक कोई भी नकारात्मक विचार अपने मन में ना आने दो और पूरा पोस्ट को ध्यान से पढो। जहा तक मुझे लगता है, या पोस्ट आपकी मदद जरुर करेगा।



एक छोटी सी कहानी बताता हूँ, एक बार एक व्यक्ति को ज्ञान हो जाता है कि वो मरने वाला है और अगले जन्म में वो सुअर के रूप में जन्म लेगा।
वो अपने बच्चो को बुलाता है और कहता हैल: बच्चो मुझे बहुत गबराहट हो रही है क्योकि में मरने के बाद एक सुअर बनूँगा, में सोच के परेशान हूँ कि कैसे वो में जिंदगी को बिताऊंगा, कैसे में कूड़ा करकट खाऊंगा, कैसे में कीचड़ में रहूँगा, कैसे में बदबू वाली जिंदगी जिऊंगा।
बच्चो ऐसा करना, मेरे मरने के बाद साथ वाले गाँव में जाना और वहा पे जब मेरा सुअर के रूप में जन्म हो तो मुझे मार देना, इस तरह से भगवान की मर्जी भी पूरी हो जाएगी और मुझे भी वो कूड़ा करकट खाने वाली वो गन्दी जिंदगी, वो कीचड़ वाली जिंदगी जीनी नहीं पड़ेगी।
कुछ दिनों के बाद वो मर जाता है, और उसके बच्चे अपने अपने काम में लग जाते है और वो भूल जाते है कि उन्हें अपने बाप को मारना है जो की सुअर के रूप में जन्म ले चुके है। कोई एक साल बीतने के बाद अचानक बच्चो को याद आता है, कि हमारे पिताजी सुअर की जिंदगी जी रहे होंगे उन्होंने तो हमें मारने के लिए बोला था। लाटी उठाते है और दुसरे गाँव में चले जाते है।
जैसे ही दुसरे गाँव पहुँच जाते है, उनका बाप, जो की अब सुअर है, उन्हें देख कर अपनी जान बचाने के लिए इधर उधर भागता है, और अचानक वो बच्चे उसे घेर लेते है जैसे वो उसे मारने लगते है तो वो सुअर प्रार्थना करता है, मेरे बच्चो मुझे मारो मत, जब में इंसान था तब मुझे लगता था, में परेशान था कि उस सुअर की जिंदगी कैसे जिऊंगा। लेकिन अब सुअर की जिंदगी में आने के बाद, मुझे अपने भाई बहनों से प्यार हो गया है, मुझे वो कीचड़ अच्छा लगना शुरू हो गया है, मुझे वो बदबू अच्छी लगनी शुरू हो गयी है, मुझे वो कूड़ा करकट खाने की आदत हो गयी है, मुझे ये जिंदगी जीने की आदत हो गयी है।
मेरे मित्रो, कुछ ऐसा ही हमारे साथ भी होता है, हम है तो इंसान, लेकिन हर कोई अलग अलग जानवर की जिंदगी जी रहा है। कोई तो 80-80 रुपये लीटर वाला पानी पीता है, 100 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ़्तार पे जाने वाला एयर क्राफ्ट, उसमें ट्रेवल करता है, 1-1 हजार रुपये की डिश खाता है, 2-2 लाख रूपये की घडी पहनता है, 50-50 लाख, 1-1 करोड़ की गाड़ियों में गुमता है, बड़े बड़े घरों में रहता है, महंगी महंगी चीजों को खरीदता हैं।
और जबकि वही पे ऐसे इंसान भी हैं, जो जिंदगी से समझोता करते है, प्रदूषित पानी पीते है, छोटे छोटे काम करते है, गली-सड़ी सब्जियां खरीदते है, फल नहीं खाते है और अगर खाते है, तो सस्ते वाले खाते है, पैदल चलते है। यानि एक गरीब वाली जिंदगी जीते है और ऐसी जिंदगी जीते जीते उनको अच्छा लगना शुरू हो जाता है, ऐसी जिंदगी से उन्हें प्यार हो जाता है, ऐसी जिंदगी जीने की आदत हो जाती है, ऐसी जिंदगी में खुश रहो यह हमारे माता पिता भी कहते रहते है, हमारे धार्मिक गुरु भी कहते रहते है और तो और हमारे पोलिटिकल लीडर्स भी कहते रहते है।
बल्कि ऐसी ही जिंदगी हम जीये है, और लोग इसके लिए कोशिश भी करते रहते है, और इस तरह से हमे सस्ती चीज़े खरीदने की आदत भी पड़ जाती है। सब्सिडी वाली प्रोडक्ट्स, सस्ता रासन, फ्री पानी, फ्री बिजली।
अमीर क्यों अमीर है, गरीब क्यों गरीब है। गरीब क्यों नहीं अमीर बन पाता और अगर बनना चाहे तो वो क्या करें। तो इसके लिए आपको क्या करना है, अपनी खरीददारी को थोडा थोडा करके मंहगा करते जाना है, महंगी चीजों को धीरे धीरे खरीदने की आदत डालनी है और अपना लाइफ स्टाइल धीरे धीरे बेहतर करते जाना है, ये महंगी खरीददारी चाहे पिछले महीने से चाहे 5% ही महंगी हो, लेकिन महंगी होनी चाहिए।
इसके अलावा आप विंडो शौपिंग भी कर सकते है, यानि की शोरूम के बाहर सजा हुआ सामान देखना और खरीदना कुछ भी नहीं। इस विंडो शौपिंग का एक अलग से बजट बनाओ, जैसे कि आज मुझे 25 लाख की विंडो शौपिंग करनी है। शोरूम के बाहर डिस्प्ले विंडोज में सजे हुए सामान को देखो और तब तक विंडो शौपिंग करते रहो जब तक उस दिन का बजट पूरा ना हो जाये।

कुछ और सुझाव

सुझाव 1 – कपड़ो कि खरीददारी थोड़ी मंहगी, अच्छी ब्रांड, थोडा बेहतर शोरूम।
सुझाव 2 – रासन थोडा सा मंहगा, रासन के बेहतर ब्रांड या फिर रासन की दुकान ही बदल लो।

सुझाव 3 – सब्जियों और फ्रूट्स कि शौपिंग बिना मोल भाव के करे, और अगर आपको लगता है कि दुकानदार सही नहीं है तो दुकान बदल दो।
सुझाव 4 – साबुन, परफ्यूम, कॉस्मेटिक्स ये भी थोड़े से मंहगे वाले ख़रीदे।
सुझाव 5 – अपने पॉकेट से पुराने बोलपेन को फेंक कर थोडा सा मंहगा ब्रांड वाला ख़रीदे।
सुझाव 6 – घर के काम के लिए नौकर रख लो, और उसे आस पास वालो से ज्यादा पैसे दो, अगर पहले से हो तो उसका पगार बड़ा दो।
सुझाव 7 – रिक्शावाले के साथ, ठेले वाले के साथ मोल भाव बंद कर दो। कितने ज्यादा ले लेगा 5 रूपये या 10 रूपये, हो सकता है उसकी फॅमिली में 5 रूपए की वैल्यू बहुत ज्यादा हो। लेकिन ये 5 रूपए आपकी लाइफ को ज्यादा बेहतर कर देगा।
सुझाव 8 – अगर आप जॉब कर रहे हो तो, जो नेक्स्ट पोजीशन है उसके मुताबिक व्यवहार करना शुरू कर दो, वेसे ही कपडे पहनना शुरू कर दो, वेसा ही आपका चाल चलन बना दो।
सुझाव 9 – अगर व्यापार करते हो तो, जो प्रोडक्ट या सर्विसेज बेचते हो उनको थोडा बेहतर कर दो, और अपना साइन बोर्ड, इनवॉइस बुक, विजिटिंग कार्ड को थोडा बेहतर बनवा दो।
सुझाव 10 – अगर प्रोफेशन में हो जैसे वकील, डॉक्टर, ब्यूटिशियन। तो उस हालत में अपने ऑफिस को पहले से बेहतर बना लो, अपने विजिटिंग कार्ड्स को बेहतर बनवा लो, अपने लुक को बेहतर कर दो।


सुझाव 11 – मूवी देखने के लिए मंहगा हॉल और इंटरवल में मंहगा खाना।
सुझाव 12 – ट्रेन में मंहगी क्लास में सफ़र करें।
सुझाव 13 – अपने बच्चो के लिए सब कुछ बेहतर, सब कुछ मंहगा। महंगे स्कूल, मंहगी किताबे, मंहगे कपडे।
यानि आज जो भी खरीदो वो कल ख़रीदे हुए से थोडा मंहगा, थोडा बेहतर हो, यानि कुल मिला के धीरे धीरे सब कुछ थोडा थोडा मंहगा, थोडा थोडा बेहतर खरीदना शुरू कर दो। महंगा खरीदने से मेरा ये मतलब नहीं की जो प्रोडक्ट आप सस्ते खरीदते थे उन्हें ही मंहगा खरीदना शुरू कर दो, मेरे कहने का मतलब है कि प्रोडक्ट को अपग्रेड कर दो, ब्रांड को अपग्रेड कर दो, शोरूम को अपग्रेड कर दो।

leftsidebar